Wednesday 7 September 2011

प्यार की निशानी !

                                   


                                             खेत-खेत और जंगल-जंगल बरस रहा  है पानी
                                             देखो-देखो मानसून  बन गया  है औघड दानी !

                                             धरती के आंगन में  बिछ गयी   हरियाली की चादर  ,
                                             बैठ के जिस पर प्रेम के पंछी बोलें अपनी बानी  !  
                  
                                            सोने-चांदी की चमक भी   इसके आगे फीकी
                                            बादलों से बरस रही जो  प्यार की   निशानी !

                                             थाम लो अपनी अंजुरियों में,वरना पछताओगे
                                             आज  तुम्हारी बेरुखी कल होगी एक कहानी !
                                    
                                            अमृत की  ये  बूँदें अनमोल तुम  मोल इनका समझो ,
                                            नहीं तो मौसम  तय कर देगा कीमत मनमानी !
                            
                                            पढ़-लिख वाकई आज बन गए  लोग बहुत ज्ञानी ,
                                            न जाने फिर  क्यों करते हैं  वो  ऐसी नादानी  !
                           
                                             अम्बर से बरसते आशीषों  को व्यर्थ बहा देते हैं
                                             फिर कैसे मिल पाएगी बोलो उसकी मेहरबानी !

                                                                                         स्वराज्य करुण


                                        
                                              
                             


                                  
                                         
                                             

3 comments:

  1. वाब!
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल पढ़ने को मिीली आज तो!

    ReplyDelete
  2. क्या बात है .....बहुत अनुकरणीय विचार हैं आपके .

    ReplyDelete