Saturday 27 August 2011

अन्ना का अनशन !

                                                                                        -- स्वराज्य करुण



                                            कई दिनों से चल रहा  है  अन्ना का अनशन ,
                                            सारे  नेता -अभिनेता यहाँ लगते खूब प्रसन्न !

                                            पक्ष-विपक्ष सब एक हो गए  भूलकर अनबन ,
                                            अन्ना जी करते रहो तुम ऐसा ही अनशन !
                               
                                            लोकपाल के मंत्र-जाप में रमा है सबका  मन
                                            अच्छा है सब भूल गए  कहाँ है काला-धन !

                                           देश के लिए   उपवास करे वो, हम खाएं भर-पेट
                                            भले किसी को मिल न पाए दो वक्त राशन  !

                                           उनकी ऐसी  मनोवृत्ति को  बार-बार  धिक्कार ,
                                           जिसके आगे तुच्छ हो गया  गरीबों का जीवन !
                           
                                           इसीलिए तो  कह  गए  हमसे सारे बड़े-बुजुर्ग ,
                                           दिल -दिमाग  हो जाए वैसा , जैसा खाए अन्न  !

                                           झुलस रहे हैं लोग, तेज है  महंगाई की आग ,
                                           रंगमंच पर संसद के ,फिर भी जारी है प्रहसन !
                           
                                           लोकतंत्र की द्रौपदी का  खुलकर  चीरहरण 
                                           भरी सभा में अट्टहास कर रहा है दुर्योधन    !

                                          भ्रष्टाचार के इस मर्ज  का हुआ न कोई इलाज
                                          तो समझो कि मिट जाएगा अपना ये वतन !
                           
                                         अन्ना की आवाज़ से अब एक  हुआ  समाज 
                                          एक से जुड़कर एक होगा देश का जन-जन !

                                          सत्य भले  परेशान लेकिन पराजित न होगा ,
                                          तूफानों से लड़ने का दीपक ने लिया है प्रण  !
                                                                                     -  स्वराज्य करुण
  
                                                 
            





                           

6 comments:

  1. सत्य भले परेशान लेकिन पराजित न होगा , तूफानों से लड़ने का दीपक ने लिया है प्रण !

    Satya hai.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  5. लोकतंत्र की द्रौपदी का खुलकर चीरहरण
    भरी सभा में अट्टहास कर रहा है दुर्योधन .....bartaman bisangatiyon ko chitrit karti shandar rachna..badhayee aaur apne blog per amantran ke sath

    ReplyDelete
  6. समसामयिक प्रस्तुति ...आज अनशन समाप्त हुआ ..

    ReplyDelete