Sunday 14 August 2011

कैसा है फैसला : कैसा इन्साफ ?

                              
                                    कहीं भी नहीं मची खलबली ,
                                    अस्सी हजार करोड़ की  टैक्स चोरी करने के बाद
                                    सिर्फ पांच लाख रूपए की जमानत पर 
                                    रिहा हो गया  डाकू हसन अली  /
                                 

                                     कैसा है फैसला ,कैसा है इन्साफ ,
                                     रुपयों के रुपहले जादू  से यहाँ 
                                     संगीन जुर्म भी  हो जाते हैं माफ  /
                               
                                     बच्चों के इलाज के लिए
                                     कोई महज़ पांच रूपए की चोरी में 
                                     जिंदगी भर सड़ता है सलाखों में ,
                                     कोई यहाँ करोड़ों लोगों को लूट कर  
                                     खेलता है खुले आम  रोज-रोज लाखों में /


                                      ख़बरों में सब कुछ देख कर,
                                      रोज -रोज पढ़ कर  और सुन कर
                                      भौचक है हमारी भावी पीढ़ी ,
                                      सत्य का सर्वनाश  कर खूब गर्व से
                                       कुछ हैं जो चढ़ रहे सत्ता की सीढ़ी / 


                                      फिर भी हम कहते हैं आन-बान-शान से 
                                      कि देश अब आज़ाद है,  ,
                                      इस भयानक भुलावे में  भटकते रह गए
                                      तो  तय मानो  हमारा भविष्य बर्बाद है /
                                                                                           -   स्वराज्य करुण





14 comments:

  1. ये सिर्फ आपके ही नहीं हर सच्चे हिन्दुस्तानी के दिल की बात है.सार्थक प्रस्तुति.बधाई

    ReplyDelete
  2. सही सोच है आपकी ,सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. जन सैलाब के बिना कुछ न होगा या जान एलिया साहब की ये पंक्तिया गुनगुनाईये

    अब फ़कत आदतो की वर्जिश है

    रूह शामिल नही शिकायत में

    ReplyDelete
  4. बिल्कुल सही कहा आपने मगर ना जाने कब हम ये समझेंगे।

    ReplyDelete
  5. आज 14 - 08 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  6. bilkul sach kaha...hamara desh barbad hai.

    sunder prbhaavshali lekhan.

    ReplyDelete
  7. देश aajad है केवल -भ्रष्ट नेताओं के लिए ,भ्रष्ट जनता के लिए .सार्थक रचना .आभार
    devi chaudhrani

    ReplyDelete
  8. कटु सत्य कहती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. सार्थक और सशक्त प्रस्तुति. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  11. रुपयों के रुपहले जादू से यहाँ \
    संगीन जुर्म भी हो जाते हैं माफ /

    बहुत सार्थक प्रस्तुति...
    राष्ट्र पर्व की हार्दिक बधाईयाँ...

    ReplyDelete
  12. कैसा है फैसला ,कैसा है इन्साफ
    रुपयों के रुपहले जादू से यहाँ
    संगीन जुर्म भी हो जाते हैं माफ

    bahut acchi prastuti badhaai

    me do line arz hai
    khuda teri adaalat me kaisa insaaf ho gaya
    katl karne walo ka har khun maaf ho gaya

    ReplyDelete