Sunday, July 31, 2011

बुझने लगे खुशहाली के ख्वाब

                                         घोटालों का घी और
                                         असत्य का अमृत पी कर
                                         अँधेरे की रजाई ओढ़
                                          चैन की नींद  सो रही  है
                                          मेरे देश की प्रगति /
                                        
                                           जिन हाथों में उसे
                                           झकझोर कर जगाने की
                                           ताकत है, वो भी ऊंघ रहे हैं
                                           थकान के बोझ से /
                                           गुलामी की भयानक यादों  में
                                           दब कर दिल ही दिल में  घुट रही है 
                                           मेरे वतन की आज़ादी /
                                         
                                           बिखरने लगे हैं सपने विकास के ,
                                           जैसे बिखरते हैं महल ताश के  /
                                           बिक रहे हैं खेत जिनमें
                                           बन रही है कॉलोनियां ,
                                           लिख रहे हैं फिर भी कुछ लोग 
                                            तरक्की और समृद्धि  की
                                            नकली कहानियां /

                                            सब जानते हैं  लोहे-लक्कड़ के
                                            कारखाने में पैदा नहीं होते चावल- गेहूं ,
                                            सरसों, ज्वार-बाजरा ,
                                            अनाज के लिए ज़रुरी होता है
                                            धरती माँ का आँचल ,
                                             जिसे फाड़ कर फेंकने को
                                             तत्पर हैं कुछ धन-पशु पागल /
                                             
                                              खेतों में हर दिन खड़ी हो रही 
                                              धुंआ उगलती चिमनियां
                                              मिट रहे हैं नदी -नाले ,
                                               जैसे मिट रही  जिस्म से धमनियां
                                               कट रहे जंगल बेहिसाब
                                               टिमटिमाते दिए की तरह
                                                बुझने लगे हैं खुशहाली के ख्वाब ?

                                                                                         स्वराज्य करुण

11 comments:

  1. वर्तमान समस्याओं पर केन्द्रित सुंदर कविता।

    दर्शन पाकर धन्य हो गए।

    ReplyDelete
  2. आज के यथार्थ का सटीक चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  3. देश की समस्यायों का सटीक चित्रण ... जहाँ एक ओर कल कारखाने चाहिए वहीं गाँव के विकास के लिए भी प्रयास होने चाहिए ..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना लिखी है आपने!
    --
    आज पूरे 36 घंटे बाद ब्लॉग पर आया हूँ!
    धीरे-धीरे सब जगह पहुँच जाऊँगा!

    ReplyDelete
  5. सर कंहा थे आप इतने दिनो बाद दर्शन वो भी करारे जोड़ के साथ ?

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव भरी रचना . इस रचना को लिखने में आपने काफी वक्त लिया है .

    ReplyDelete
  7. आजकल के समयों की बेहद मार्मिक और सटीक अभिव्यक्ति. बेहद खूबसूरत रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  8. जन्माष्टमी की शुभ कामनाएँ।

    कल 23/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. यथार्थ का सुन्दर चित्रण प्रस्तुत किया है आपने.
    नई पुरानी हलचल से आपके ब्लॉग पर आना हुआ.
    सार्थक लगा आना.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  10. बहुत प्रभावी,बहुत सुन्दर..ख़ूबसूरत कविता

    ReplyDelete