Saturday 18 June 2011

(गीत) मेघों का परिधान पहन कर

                             
                                                                                                    - स्वराज्य करुण
                                         
                                            मेघों का परिधान पहन कर आया है इस बार भी पानी ,
                                            भीग रहा है सबका  आंगन ,भीग रही है सबकी छानी !

                                                          नदियों के इठलाने का भी
                                                          आज नया कुछ ढंग हुआ है,
                                                          गर्मी के कवियों का सम्मेलन
                                                          अभी-अभी ही भंग हुआ है !

                                             फ़ैल रही है इधर-उधर अब शीतलता की बौछारें ,
                                             धरती पर खूब उछल-कूद कर बूँदें करती मनमानी  !
                                                 
                                                           दिन में सूरज की सब किरणें
                                                           बादल के घर खेलती हैं ,
                                                           और हवा भी नई बहू-सी
                                                           बारिश की रोटी बेलती है !
                                                                                                                                            
1                                          पग-पग पर हैं रानी -कीड़े  , रेशम-सी मुस्कान बिखेरें ,                              
                                            नटखट  गुड़िया -सी बिजली  करती है खूब मनमानी !

                                                         ढोल-मृदंग अब कौन बजाए
                                                         गलियों में,चौपालों में ,
                                                         अम्बर से संगीत झर  रहा ,
                                                         झीलों, नदियों ,तालों में !

                                          उमंगों के हैं फूल खिल रहे हरियाली के आंगन में ,
                                          नयी तरंगों के झूले में झूलकर खिल गयी  धरती रानी !

                                                                                                           -  स्वराज्य करुण
                                                                   



छाया चित्र  google से साभार
रानी  कीड़े -मानसून की पहली बौछार के बाद धरती पर निकलने वाले
लाल सुर्ख मुलायम  रेशमी त्वचा वाले कीड़े ,जिन्हें छत्तीसगढ़ में रानी-कीड़े के नाम से
जाना जाता  है, जो लगातार बिगड़ते पर्यावरण के बीच अब लगभग विलुप्त हो गए हैं .

5 comments:

  1. सुंदर वर्षा गीत,माटी की सौंधी खुश्बु लिए हुए।
    रानी कीड़ा को बहूटी भी कहते हैं।

    आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर वर्ष गीत| धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. ढोल-मृदंग अब कौन बजाए
    गलियों में,चौपालों में ,
    अम्बर से संगीत झर रहा ,
    झीलों, नदियों ,तालों में !
    sundar prakritik prastuti.

    ReplyDelete
  4. वाह वाह


    नदियों के इठलाने का भी
    आज नया कुछ ढंग हुआ है,
    गर्मी के कवियों का सम्मेलन
    अभी-अभी ही भंग हुआ है

    मजा आ गया

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर गीत.

    ReplyDelete