Saturday 2 April 2011

(कविता ) लग चुकी है आग , आओ खोदें कुआं !

                                                                                         
                                                                                        
                                                                                    स्वराज्य करुण
                                           
                                                    याद आती हैं नदियाँ ,
                                                    याद आते हैं तालाब ,
                                                    याद आती है उनके किनारों से
                                                    गायब हरे-भरे पीपल और
                                                    बरगद की छाँव ,
                                                    चिड़ियों की चहक ,
                                                    धूल भरी माटी की
                                                    मन भावन महक,
                                                    मिट गए  हैं  जिनके
                                                    नाम-ओ-निशान ,
                                                    विकास की बेरहम आंधी में
                                                    खो गयी है जिनकी
                                                    बेशकीमती पहचान / 
                                                   गाँवों को अपने खूनी पंजों में
                                                   जकड़ने लगे हैं  शहर
                                                  खो गयी है जाने कहाँ
                                                  पानी और प्यार की एक  नहर /
                                                  कभी खुलते थे जहां दानवीरों के प्याऊ
                                                  राहगीरों की प्यास बुझाने का
                                                  उनमे था संस्कार ,
                                                 अब तो वे भी करने लगे
                                                 शीतल-पेय का चोखा कारोबार /
                                                 सड़क चौड़ीकरण के नाम
                                                 हो रही है हत्या बेजुबान वृक्षों की ,
                                                 मुसाफिरों को मिलती नहीं
                                                 अंजुरी भर छाया ,
                                                 नव-तपे की धूप में जलती है
                                                 मेहनतकशों की काया /
                                                 होगी  इस बार भी
                                                अंगारों की बारिश
                                                और बहुत याद आएंगें पेड़-पौधे ,
                                                याद आएगी हरियाली ,
                                                याद आएगा -ज़मीन के नीचे
                                                गहरे और गहरे चला जा रहा पानी  /
                                                जब-जब आता है --
                                                आसमान से आग बरसाने वाला मौसम ,
                                                जब-जब सूरज बरसाता है शोला
                                                हमें बहुत याद आती है शबनम /
                                                दोस्तों ! लग चुकी है आग
                                               आओ ,अब हम खोदने लग जाएँ कुआं  ,
                                                घर तो अपना जल ही रहा है
                                               आओ देखें दूर तक उठता धुंआ /
                                                                        --  स्वराज्य करुण 

3 comments:

  1. कुआं तो खुदने से रहा बोर के लिए भी पहले इजाजत लेनी होगी, जाएं तो जाएं कहां...

    ReplyDelete
  2. वह वह बहुत हे उम्दा शब्द है जी ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  3. गहन चिंतन ...अच्छी नज़्म सोचने पर विवश करती हुई

    ReplyDelete