Wednesday, March 23, 2011

(ग़ज़ल ) समझाओ दिल-ए-नादान को !

                                                                                          स्वराज्य करुण

                                           युद्ध की आग में जलाओ मत इंसान को ,
                                           धरती को , सागर को और आसमान को !

                                           मरने वाला भी तुम्हारे जैसा कोई इंसान था ,
                                           क्यों मिटाने लगे  इंसानियत के निशान को !
                                       
                                           सबको  है  जीने का  अधिकार सुनो दुनिया में ,
                                           हर किसी को  प्यार दो,  छोड़ कर अभिमान को !

                                           दिल में रखो प्यार के ज़ज्बात सभी के  लिए
                                           भगाओ हमेशा के लिए  भीतर  के शैतान को !
                                      
                                           क्यों खींचते रहे नफरत की लकीर नक्शों पर
                                           भूल कर अमन-चैन , प्रेम की पहचान को !
                          
                                           मिटाओ मत गाँव ,शहर और अपने देश को
                                           छोड़ दो आज ही  तुम अपने इस गुमान को  !

                                           दूसरों की मेहनत से  घर अपना भरते रहे ,
                                           याद कब  करोगे मजदूर और किसान को !

                                           बंद करो बन्दूक - बारूद और धुंए  के कारखाने ,
                                           संवार लो ज़मीन पर खेत और खलिहान को !

                                           महज़ रूपयों से पेट भरता नहीं इंसान का ,
                                           समझाओ अपने दिल से  दिल -ए-नादान को !

                                            प्यार की हवा बहे ,  बनाओ ऐसी बस्तियां
                                            पैगाम सुनाओ दोस्ती का , जंग के मैदान को    !    
                                                                                       
                                                                                         स्वराज्य  करुण
     

                                                                               

4 comments:

  1. वो सुबह कभी तो आएगी...

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उम्दा गजल है !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर जरुर आना !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर अमन के भाव है भाई साहब
    अगर ये भाव सब में जागृत हो जाएं तो राम राज्य आ जाएगा।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही शुद्ध भावनापूर्ण गज़ल. पढ़कर इच्छा लगा.

    ReplyDelete