Sunday 20 March 2011

(गीत) प्यार भरा अबीर

                                                                 
                                             स्वराज्य करुण
                                          
                                              राम हो, बलराम हो , तुलसी , रहीम , कबीर
                                              सबके माथे खूब  लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                                     भेदभाव के भरम से निकलो,   
                                                     सबको समझो अपना ,     
                                                     सबके जीवन में खुशियाँ  हो ,
                                                     सच हो सबका सपना !
                           
                                           रंगों में मिल एक हो जाएँ -राजा, रंक, फ़कीर ,  
                                           सबके माथे खूब  लगाओ प्यार भरा अबीर  !

                                                   दूर करो सब अपने मन से
                                                   नफरत और निराशा ,
                                                   दिल में हो  प्रेम की वाणी ,
                                                   हर जुबां प्रेम की भाषा !
                            
                                      आज मिटा दें सदा के लिए छोटी-बड़ी लकीर
                                       सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                               रंगों के  मौसम का स्वागत
                                               हर आँगन ,हर बस्ती में , 
                                               झूम रहे हैं बच्चे-बूढ़े ,
                                               अपनी धुन में, मस्ती में !
                                             
                                    कुदरत अपनी तूलिका से बना रही तस्वीर
                                    सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                               राहों में हों पेड़ घने और
                                               फल हों मीठे-मीठे ,
                                               हँसते -गाते चले सफर
                                               हर पल ऐसा बीते !

                                  कोयल गाए राग-फागुनी , संगत में रघुबीर ,
                                  सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !              
                                                                                -   स्वराज्य करुण

                                           

1 comment:

  1. "ललित" के मय के प्याले में तुम भी डूब लो साकी
    जरा सा हम बहक जाएँ जरा सा तुम बहक जाओ

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete