Sunday 13 March 2011

(ग़ज़ल) दिल है दहलने के लिए !

                                                                     
                                                                                   स्वराज्य करुण

                                                 एक उम्र बहुत है संभलने के लिए ,
                                                 एक पल  बहुत है बदलने के लिए !
                                               
                                                 लोग हैं कि हज़ारों बदलते हैं चेहरे ,
                                                 अपनों को हमेशा छलने के लिए !

                                                 रास्ते घुमावदार ,घाटियाँ हैं बहुत 
                                                 भूल-भुलैय्या है चलने के लिए ! 

                                                  तुम्हें जीना है चाँद की  ठंडी छाँव में 
                                                  हमें ज़िंदा रहना है जलने के लिए !
                                 
                                                   फूलों के बाग में कांटे ही कांटे हैं ,
                                                   मजबूर  हम उनमें  टहलने के लिए !

                                                    प्यार के नाम पर प्रहार ही प्रहार ,
                                                    दिल तो फिर दिल है दहलने के लिए !
                                                  
                                                     परछाई को  मसीहा मान लिया  है
                                                     नकली दिलासे  में बहलने के लिए !
        
                              
                                                                                       -    स्वराज्य करुण 

14 comments:

  1. बेहतरीन गजल। बधाई।

    ReplyDelete
  2. Good one. I enjoyed it. Life is, in fact, a paradox of many things. We have live it without any option.

    ReplyDelete
  3. रास्ते घुमावदार ,घाटियाँ हैं बहुत
    भूल-भुलैय्या है चलने के लिए !

    क्या शेर कहे हैं आपने,
    बहुत खूब !......

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब !

    काम काज की वज़ह से कई दिनों तक नेट पर आना नहीं हो पाया अब धीरे धीरे आपकी पिछली रचनाएं भी पढेंगे !

    ReplyDelete
  6. फूलों के बाग़ में कांटे ही कांटे हैं ...
    मजबूर हैं उनमे चलने के लिए ...
    जिंदगी भी तो फूलों का बागीचा ही है !
    अच्छी ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  7. बहुत बेहतरीन गजल| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ,उम्दा लगी

    ReplyDelete
  9. फूलों के बाग में कांटे ही कांटे हैं ,
    मजबूर हम उनमें टहलने के लिए !

    प्यार के नाम पर प्रहार ही प्रहार ,
    दिल तो फिर दिल है दहलने के लिए !


    खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  10. प्यार के नाम पर प्रहार ही प्रहार,
    दिल तो फिर दिल है दहलने के लिए!
    --
    खूबसूरत अशआरों से सजी उम्दा गजल!

    ReplyDelete
  11. लोग हैं कि हज़ारों बदलते हैं चेहरे ,
    अपनों को हमेशा छलने के लिए !
    रास्ते घुमावदार ,घाटियाँ हैं बहुत
    भूल-भुलैय्या है चलने के लिए !.....

    बेहद शानदार अशआर.....बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब.क्या शेर कहे हैं.

    ReplyDelete
  13. bahut khoobsoorat ...
    नकली दिलासा में बहलने के लिए ! को
    नकली दिलासे में बहलने के लिए
    कर लीजिये ...

    ReplyDelete
  14. शानदार ग़ज़ल के लिए बधाई!

    ReplyDelete