Saturday 26 February 2011

(गीत ) मानवता के गाँव में !

                                                                                                  स्वराज्य करुण
                             

                                            नफरत की इस तेज धूप से चलो प्यार की छाँव में
                                            आओ मेरे हमसफर ,चलें हम मानवता के गाँव में !

                                                      
                                                          इक-दूजे से कटते -मरते 
                                                          जहां लोग न हों ,
                                                          खुदगर्जी और बेईमानी का
                                                          कोई रोग न हो !
                                                                   
                                     

                                         जहां न कोलाहल कठोर हो ,  भूख-प्यास  अभाव में 
                                         आओ  मेरे हमसफर, चलें  हम मानवता के गाँव में !


                                                       शोषण के नागों की
                                                       जहां  न हथकड़ियाँ हों,
                                                       हँसी-खुशी से जहां
                                                       जिंदगी की घड़ियाँ हों !

                
                                       गतिशीलता पाँव जमा ले   जन-जन के हर पाँव में ,
                                       आओ मेरे हमसफ़र , चलें हम मानवता के गाँव में !


                                                    ख्वाब किसी का लुट जाए,
                                                     ऐसी कोई बात न हो  ,
                                                    उमंगों की बौछार हो सदा ,
                                                    दर्दों की बरसात न हो !

           
                                    शान देश की   बढ़ती   जाए , लगे कभी न दांव में ,
                                    आओ मेरे हमसफ़र , चलें  हम  मानवता के गाँव में !

                                                                                             -   स्वराज्य करुण 

7 comments:

  1. gaawe charo or parkati ki chave
    ati sunder

    ReplyDelete
  2. सुन्दर भाव,बेहतर रचना ; अच्छी तुकबंदी .बधाई .

    ReplyDelete
  3. अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भाव..हरेक को तलाश है ऐसे गाँव की...सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. ख्वाब किसी का लुट जाए,
    ऐसी कोई बात न हो ,
    उमंगों की बौछार हो सदा ,
    दर्दों की बरसात न हो !
    एक अच्छे समाज की कल्पना मे सार्थक अभिव्यक्ति। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर ! बदलते परिवेश में सकून की चहत को बखूबी दर्शाया है ! !

    ReplyDelete
  7. कविता को फीकी करती तस्‍वीर.

    ReplyDelete