Tuesday 22 February 2011

(ग़ज़ल ) इशारों को देखिए !

                                                                                    स्वराज्य करुण

                                         महलों को देखिए , मीनारों को देखिए ,
                                         सपनों  में मगन-मस्त सितारों को देखिए !

                                          कहते हैं वतन सबका इक प्यारा सा घर है,
                                          आंगन में रोज बनती दीवारों को देखिए !

                                          बूंदों के लिए तरस रही ये   वक्त की नदी ,
                                          लहरों से हुए  दूर   किनारों को देखिए !

                                          दौलत के दलालों की हर पल  यहाँ   दहशत ,
                                          इरादे भी खौफनाक ,  इशारों को देखिए  !
                                 
                                           गाँवों को मिटा कर वो बनाने लगे शहर ,
                                           कटते हुए  जंगल-पहाड़ों को देखिए !
                             
                                           कुर्सियां भी  उन्हें झुक -झुक सलाम करे है ,
                                           देखिए अब  ऐसे  नजारों को देखिए !

                                           कहते हैं लोकतंत्र  पर  लगता तो नहीं है ,
                                           चुनावों में वोटरों के बाज़ारों को देखिए !

                                           बिकने को खड़े  सब हैं हर एक कदम पर ,
                                           दस-बीस नहीं , कई  हज़ारों को देखिए   !
                                   
                                          बन  जाए  जिंदगी शायद  उनकी इबादत में ,
                                          मासूम  ख्वाब लिए  बेचारों को देखिए !

                                          भगवान के लिए  नहीं जयकार कभी  इतना , 
                                          मदहोश,मटरगश्त लगे  नारों को देखिए !
                                       
                                          होना है जो भी ,वह तो होकर ही रहेगा ,
                                          बेबसी में आज  कैद बहारों को देखिए !
                                                                                      
                                                                                       -  स्वराज्य करुण
                                       

4 comments:

  1. hakikat bya karti gazal
    badhai swekaar kare

    ReplyDelete
  2. नजरें बंद, क्‍या देखें.

    ReplyDelete
  3. वर्तमान को शब्दों में बांध लिया आपने।

    ReplyDelete
  4. बहुत लाजवाब और सार्थक गज़ल..हरेक शेर सच का आइना..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete