Sunday 20 February 2011

(गीत) फागुन की आहट !



                          
                                                                                          
                                                                                            -  स्वराज्य करुण
                                              
                                                 आंगन  की दीवार पर काला  कौआ,
                                                 दे गया मीत ,मेरे मन को  बुलौआ  !
                                                 जंगल में सपनों के हिरणों की आज
                                                 निकलेगी खूब धूम-धाम से बारात !

                                                 खेतों के आंगन से वन-उपवनों तक ,
                                                 पर्वतों के शिखरों से झूमते झरनों तक ,
                                                 लोक-गीतों  की मधुर तान की तरह ,
                                                 छा गया दिल में आज  नया प्रभात !

                                                  पेड़ों में खिलने लगे हरे-भरे पत्ते ,
                                                  खुशियों से हिलने लगे भंवरों के छत्ते !
                                                  फागुन के पांवों की आने लगी आहट,
                                                  माघ ने  भी  हिलाए बिदाई के हाथ !

                                                 पंछियों  की आँखों में एक नयी चमक है ,
                                                 प्यार की रोटी में चुटकी भर नमक है !
                                                 सोनमुखी किरणों की धरती पर मानो ,
                                                 होगी,  आज फिर जमकर   बरसात !

                                                 वन-फूलों से सजी हवाओं  की गाड़ी ,
                                                  चल पड़ी  देखो अब उनकी सवारी !
                                                  कुदरत की दुल्हन से जल्द  होने को है,
                                                  मौसम के दूल्हे की आज मुलाक़ात !
                                                                        
                                                                               -   स्वराज्य करुण

16 comments:

  1. बहुत सुन्दर है फागुन की आहट| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  2. बड़ी प्यारी मीठी सी है ये फागुन की आहट.सारी पंक्तियाँ भी फागुन के रंग में नहा गई है.

    ReplyDelete
  3. पेड़ों में खिलने लगे हरे-भरे पत्ते ,
    खुशियों से हिलने लगे भंवरों के छत्ते !
    फागुन के पांवों की आने लगी आहट,

    माघ ने भी हिलाए बिदाई के हाथ !


    जी हाँ, फागुन की आहट सुनाई दे रही है आपके इस सुन्दर से गीत में..

    ReplyDelete
  4. सचमुच फागुन की दस्‍तक है यह.

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बने फ़गुनाए हस भैया

    राम राम

    ReplyDelete
  7. पंछियों की आँखों में एक नयी चमक है ,
    प्यार की रोटी में चुटकी भर नमक है !

    फागुन के आगमन के सन्देश का बहुत मनोहारी शब्द चित्र...सच में मन को हर्षा दिया आपकी रचना ने...

    ReplyDelete
  8. फागुन के स्वागत के लिए तत्पर यह गीत प्रकृति का रंगीन चित्र भी उतार रहा है।

    ReplyDelete
  9. आंगन की दीवार पर काला कौआ,
    दे गया मीत ,मेरे मन को बुलौआ !



    फागुनी आहट ..!
    सुंदर रचना .!

    ReplyDelete
  10. त्योहारों की आहट मन मस्तिष्क कों प्रसन्न कर देती है । बहुत सुन्दर रचना ।
    बधाई ।

    ReplyDelete
  11. वाह...बहुत ही सुन्दर ...मनमोहक गीत...

    शब्दों के माध्यम से सुन्दर छटा बिखेरी आपने...मन हरा हो गया...

    ReplyDelete
  12. फागुन की आहट अच्छी लगी !

    ReplyDelete