Tuesday, February 15, 2011

(गीत ) अभावों की छाया में !

                                                                             --  स्वराज्य करुण
                               
                                    अभावों की छाया में जीवन यह बीत रहा
                                    खामोशी फ़ैल रही , हर्ष-कलश रीत रहा  ! 

                                        मन बहलाने को नागफनी उद्यान है ,
                                        प्यास बहलाने को मृग-जल मैदान है !
                                        हर तरफ  मतलब के पंछियों की भीड़  ,
                                        शोर-गुल में सुने कौन किसकी पीर  !

                                     आदर्शों को जिसने भी कच्चा ही  चबा लिया
                                     पेट की लड़ाई  में   सिर्फ    वही जीत रहा    !

                                          कहो अब किसे यहाँ देश की चिन्ता है,
                                          मिलते ही मौक़ा वह  नोट नए गिनता है !
                                          डाकुओं की तरह लूट कर आम जनता को,
                                          संसद  में जाते ही महापुरुष बनता है !

                                       वर्तमान यह जबकि भंवर में था फँसने लगा ,
                                        दूर खड़ा तमाशा तब देखता अतीत रहा   !

                                             जाने कब  कैसे ये गीत पुराने हुए ,
                                             समय काटने के  कुछ  नए बहाने हुए !
                                             धरती के आंचल को  चीरने लगे  ,
                                             सब के सब दौलत के दीवाने हुए  !

                                        देश-प्रेम की मधुर आवाज़ मंद पड़  गयी ,
                                        अब न किसी ह्रदय में स्नेह -संगीत रहा !
                                                                                         -  स्वराज्य करुण

11 comments:

  1. आदर्शों को जिसने भी कच्चा ही चबा लिया

    पेट की लड़ाई में सिर्फ वही जीत रहा !

    sir ji bahut hi sunder
    aabhar.........

    ReplyDelete
  2. वर्तमान यह जबकि भंवर में था फँसने लगा ,
    दूर खड़ा तमाशा तब देखता अतीत रहा !

    बढिया सामयिक रचना है।

    ReplyDelete
  3. देश-प्रेम की मधुर आवाज़ मंद पड़ गयी ,
    अब न किसी ह्रदय में स्नेह -संगीत रहा !
    बिलकुल सही कहा अब तो स्कूल के फंक्शन्स पर भी देश प्रेम के गीत नजर नही आते बस घटिया उछलकूद ही रह गयी । जब हमारे नेता ही नीच मानसिकता वाले हो गये तो बच्चे कहाँ से प्रेरणा लेंगे। अच्छे गीत के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  4. wow... bouth he aacha post kiya hai aapne dear ... nice

    Keep Visit my Blog Plz... :D
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  5. देश-प्रेम की मधुर आवाज़ मंद पड़ गयी ,
    अब न किसी ह्रदय में स्नेह -संगीत रहा

    अब लोग देश की कहाँ केवल अपनी बात सोचते हैं ..अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. ऐसे ही झंकृत होंगे तार.

    ReplyDelete
  7. हमेशा की तरह सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  8. कहो अब किसे यहाँ देश की चिन्ता है,
    मिलते ही मौक़ा वह नोट नए गिनता है !
    डाकुओं की तरह लूट कर आम जनता को,
    संसद में जाते ही महापुरुष बनता है !

    Beautiful creation !

    .

    ReplyDelete
  9. samay saapeksh kawita
    sach ke behad kareeb

    ReplyDelete
  10. कहो अब किसे यहाँ देश की चिन्ता है,
    मिलते ही मौक़ा वह नोट नए गिनता है !
    डाकुओं की तरह लूट कर आम जनता को,
    संसद में जाते ही महापुरुष बनता है !

    आज की व्यवस्था पर बहुत सटीक टिप्पणी..जब आज के नेता ही भ्रष्ट हों तो उनसे क्या उम्मीद की जा सकती है..बहुत सार्थक और सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete