Wednesday 2 February 2011

(गज़ल ) आपस में सब भाई-बन्धु !

                                                                              -   स्वराज्य करुण                                                                    
                                                कल तक जोड़ रहे थे रिश्ता, आज तोड़  रहे हैं,
                                                सब्ज़-बाग की नैया बीच भंवर में छोड़ रहे हैं !

                                                खूब दिखाया  सपना  रोटी  का , आज़ादी का ,
                                                हमको सपनों में छल कर वो चेहरा मोड़  रहे हैं  !

                                                 अभागन भारत माता के वो ही भाग्य-विधाता ,
                                                 वर्षों से हम मृग-तृष्णा के पीछे दौड़  रहे हैं  !

                                                 भूमि अपनी भूखी और प्यासी  इसकी नदियाँ  ,
                                                 भूमि-पुत्र अब घर की खाली हंडिया फोड़ रहे हैं . 
                                
                                                 देश को ठेके पर बेचने लगे हैं नेता -अफसर
                                                 सात पीढ़ियों से दोनों कमीशनखोर रहे हैं  !
                                           
                                                 चौराहों में  खूब   वसूली ,दफ्तर-दफ्तर रिश्वत
                                                 चूक गए जो लेन-देन में , वो  कमजोर रहे हैं !
                                             
                                                 दिल्ली के दरबार में देखो, मेला है मतवालों का ,
                                                 जब से आए हैं मेले में , सब  करते शोर रहे हैं !

                                                 कुर्सी की  उर्वशी के वश में हो गए  दोषी कौन ,
                                                प्रश्न-चिन्ह को इक-दूजे के दामन से जोड़ रहे हैं ! 
                                    
                                                 बाहर दिखती फूट-परस्ती ,भीतर लेकिन  एक 
                                                आपस में सब भाई-बन्धु   हरदम चोर रहे हैं  !
                                                                                                       -   स्वराज्य करुण

5 comments:

  1. वाह भाई साहब आज तो चोर चोर मौसेरे भाईयों की चर्चा खूब की है।
    सुंदर गजल, शेरों में वजन है।

    ReplyDelete
  2. बाकी पर क्‍या कहूं, लेकिन बंधुत्‍व तो बना रहे.

    ReplyDelete
  3. चौराहों में चले वसूली ,दफ्तर-दफ्तर रिश्वत
    चूक गए जो लेन-देन में , वो कमजोर रहे हैं !

    दिल्ली के दरबार में देखो, मेला है मतवालों का ,
    जब से आए हैं मेले में , सब करते शोर रहे हैं !
    वाह हर शब्द आज के सच को कहता हुया। बधाई।

    ReplyDelete
  4. ek ek shabd me sachchai jhalak rahi hai ..yatharth ka bodh karati sundar rachna .badhai .

    ReplyDelete
  5. SUNDAR VICHARON SE BHARI KAVITAA. GAHARA VYANGYA BHI HAI. YAH SAMAY VYANGYA KA HI HAI........MAGAR ABHI MAIN BHAVISHYA ME AVATARIT HONE VALEE SUNDAR-SUNVARI (RADEEF-KAFIYA) ''GHAZAL'' KE INTAZAAR MEN HU.

    ReplyDelete