Friday, December 31, 2010

(कविता ) कहाँ हैं कलियाँ ,फूल कहाँ हैं ?

                      
                                            माटी के कण-कण में क्रंदन,  चन्दन जैसी धूल कहाँ है ,
                                            मायूसी के इस मौसम में कहाँ हैं कलियाँ ,फूल कहाँ हैं ?
                                       
                                             कहाँ हैं खुशबू, कहाँ हैं खुशियाँ , कहाँ नया संगीत है बोलो ,
                                             विश्वास न हो तो इतिहास को देखो ,वर्तमान के पन्ने खोलो !

                                            वही वचन है , वही  भजन है , आवाज़ वही है भाषण की ,
                                            वही रुदन है , वही चीख है, वही सीख है अनुशासन की !

                                                भीख मांगते इंसानों की  मीलों  लम्बी कतार वही है ,
                                                 बरसों के इस अंधियारे में सुबह का इंतज़ार वही है !
                      
                                           कुछ चेहरों पर चर्बी चढ़ गयी और अनगिनत चेहरे सूखे ,
                                           कुछ लोगों की भरपूर रसोई  और अनगिनत लोग है भूखे !

                                                 सड़कों पर यहाँ बिखरा-बिखरा इंसानों का रक्त वही है ,
                                                 केवल करवट बदली इसने ,यह पुराना वक्त वही है !

                                           नए साल का यह दिखावा , फिर भी तो हर साल आता है ,
                                           चूल्हे की बुझी-बुझी राख पर चुटकी भर उबाल आता है ! 
                  
                                                                              --   स्वराज्य करुण

10 comments:

  1. वही वचन है , वही भजन है , आवाज़ वही है भाषण की ,
    वही रुदन है , वही चीख है, वही सीख है अनुशासन की !

    सब कुछ वही है ...
    लेकिन समय अपनी गति से चल रहा है।

    ReplyDelete
  2. चुटकी भर उबाल भी मानीखेज हो जाता है.

    ReplyDelete
  3. सत्य को दिखती सुन्दर रचना ...

    नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. सत्य का आइना दिखाती सुन्दर और प्रभावशाली रचना .. नव वर्ष की हार्दिक सुभकामनाये .

    ReplyDelete
  5. सार्थक रचना के साथ नए वर्ष का आगाज करते हैं।

    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  8. आपके आगमन और सौजन्य टीप के लिए सादर धन्यवाद.
    आईने की तरह सत्य का बयान करती इस रचना के लिए आभार. नव वर्ष हितकारी हो यही सद्कामना है...

    ReplyDelete