Tuesday 28 December 2010

(गज़ल) बिक जाएगा वतन !

                                          
                                                    सच्चाई बंधक है झूठ के दरबार में
                                                    अस्मत नीलाम हुई आज  भरे बाज़ार में !
               
                                                     देशभक्तों के पांवों में लगी जंजीर है ,
                                                     गद्दार घूम रहे चमचमाती कार में !

                                                    यह कैसा अंधेर है दुनिया में विधाता ,
                                                    चोरों को छूट मिली लूट  के व्यापार में !
                                     
                                                     रंगीन   परदे  पर बेशर्मों की हँसी,
                                                     विज्ञापन खूब हैं हजारों-हज़ार में !
                                      
                                                     इधर फटे कपड़ों में घूम रही  सीता ,
                                                     उधर शूर्पनखा है सोलह श्रृंगार में  !
                                      
                                                   गाँव को तबाह कर बना रहे हैं शहर ,
                                                   हरियाली बदल रही दहकते अंगार में !
                                        
                                                   दलालों के दरवाजे हर मौसम दीवाली ,
                                                   नोटों की थप्पियाँ हर दिन त्यौहार में !
                                        
                                                  कोई खाए खेल में ,कोई खाए तेल में 
                                                  कोई पशु-चारे में ,कोई  दूर संचार में !  
                                           
                                                  कहीं नीरा राडिया,कहीं भू-माफिया
                                                  कहीं नगद चुकारा , कहीं कुछ उधार मे !
                                   
                                                 बेच रहे देश को आसान किश्तों में ,
                                                 ग्राहकों की कमी नहीं इस कारोबार में !

                                                बिक जाएगा वतन देखते ही देखते ,
                                                ध्यान अगर  गया नहीं वतन की पुकार में  !
                                                                                       -  स्वराज्य करुण
                                       
                                 
                                     

11 comments:

  1. वाह भाई साहब,
    आज तो गजब कर दिया।
    एक एक शेर, बब्बर शेर है।
    किस किस पे दाद दूँ?

    ReplyDelete
  2. बात तो बिल्कुल सही कह रहे हैं।

    ReplyDelete
  3. सटीक बात ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. सच की तस्वीर इतनी भयावह बन ही पड़ी है...
    अच्छी प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. सचमुच,ऐसी ही स्थिति है।

    ReplyDelete
  6. वतन की पुकार को सुनना, उस पर ध्‍यान देना सदैव जरूरी होता है.

    ReplyDelete
  7. .

    बेच रहे देश को आसान किश्तों में ,
    ग्राहकों की कमी नहीं इस कारोबार में ...

    A very realistic creation !

    .

    ReplyDelete
  8. अपने आस पास के परिवेश की कटु सच्चाईयों से रूबरू कराती, मर्मस्पर्शी सुंदर रचना.आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  9. बड़ी जायज़ चिंता है आपकी ! पूर्णतः सहमत !

    ReplyDelete
  10. बहुत ही उम्दा ग़ज़ल लिखी है..खास आपके जानिब चंद पंक्तिया आपकी ग़ज़ल के लिए..

    सोचने को मजबूर हो जाएगा हर कोई,
    स्वराज तेरी इस करुण भरी गुहार में,

    आलोक अन्जान
    http://aapkejaanib.blogspot.com/

    ReplyDelete