Tuesday 21 December 2010

(गीत ) कौन है वह ?

                                   
                                                         धान सजे आँगन का सलोना
                                                         स्वरुप नहीं देखा है किसने ,
                                                         पूनम नहाए खेतों का  रूपहला
                                                         रूप नहीं देखा है किसने ?

                                                          किसने नहीं देखा है कह दो
                                                          वृक्षों से  छनती चांदनी को ,
                                                          झीलों में नीले अम्बर का
                                                          प्रतिरूप  नहीं देखा है किसने ?
                       
                                                           जिसके आंचल की छाया में
                                                           जीवन सबका पल रहा है  ,
                                                           जिसके स्नेह  की ताजी हवा में
                                                           दीपक -सा वह जल रहा है !
                                                
                                                            कई जन्मों के पुण्य का फल है
                                                            गोद में जिसकी  हम जन्मे
                                                            जिसने  प्राण भरे हैं साथी
                                                            मेरे-तेरे सबके मन में !

                                                             जिसकी ममता में सच मानो
                                                             सागर की गहराई है ,
                                                             जिसकी लहराती फसलों में
                                                             गीतों की तरुणाई है !
                              
                                                              वह मेरी-तेरी सबकी प्यारी                               
                                                              माँ धरती है ,
                                                              जिसकी आँखों से प्यार की
                                                              गंगा-जमुना झरती है  !.

                                                                                     स्वराज्य करुण 
                                                  

5 comments:

  1. बिना चश्‍मे के यह दिखना कितना मुश्किल है आजकल.

    ReplyDelete
  2. shayad koi nahi ...bahut sundar rachna .badhai .mere blog ''vikhyat ''par aapka hardik swagat hai .

    ReplyDelete
  3. धरा का स्नेहपूर्ण विम्ब साकार हो उठा है!
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  4. किसने नहीं देखा है कह दो
    वृक्षों से छनती चांदनी को ,
    झीलों में नीले अम्बर का
    प्रतिरूप नहीं देखा है किसने ?

    --------

    Awesome !

    .

    ReplyDelete