Saturday 18 December 2010

(कविता ) सोचो हर इंसान के बारे में !

                                        
                                                    दिल की हर धड़कन के साथ 
                                                    आँखों में नए -नए सपने लिए ,
                                                    हर पल सोचते हो अपने लिए /
                                                    माना कि समय बहुत कीमती है,
                                                    फिर भी  कुछ पल तो
                                                    निकालो अपने पास-पड़ोस ,
                                                   अपने गाँव -शहर ,
                                                   देश और दुनिया के लिए /
                                                   सोचो तुम्हारे माता-पिता की तरह
                                                   हर वक्त तुम्हारे साथ खड़े
                                                   उन  पहाड़ों  के लिए ,
                                                   जिनकी बांहों से कोई
                                                   लगातार छीन  रहा है हरियाली की चादर
                                                   सोचो तुम्हारी प्यास बुझाने वाली
                                                   उन प्यारी नदियों के लिए,
                                                   जिनका लगातार हो रहा है अपहरण /
                                                   सोचो इस बहती  हवा के बारे में
                                                   जिसकी मिठास में कोई लगातार
                                                   घोल रहा है ज़हरीली कडुवाहट /
                                                   सोचो इन मुरझाते पेड़-पौधों के बारे में,
                                                   उन पर बसेरा करते परिंदों के बारे में ,
                                                   उन्हें उजाड़ते दरिंदों के बारे में
                                                   न सोचे अगर आज
                                                   तो फिसल  जाएगा वक्त
                                                   फिर नहीं आएगी कोई आहट
                                                   कोई नहीं देगा  तुम्हे  आवाज़,
                                                   छा जाएगी एक गहरी खामोशी  /
                                                   इसलिए सोचो ज़रा कुछ पल के लिए आज
                                                   अपनी धरती के बारे में ,
                                                   अपने आसमान के बारे में,
                                                   अगर हो तुम हकीकत में कोई इंसान
                                                   तो सोचो हर इंसान के बारे में  !
                                                                    स्वराज्य  करुण                                            

                                    

3 comments:

  1. बहुत अच्छा आह्वान है काव्य के माध्यम से जिसमें समाज और संसार के प्रति गहरी चिंता जताई गई है।

    ReplyDelete
  2. बड़ी और उदार सोच.

    ReplyDelete
  3. आशावादिता !

    ReplyDelete