Wednesday, December 15, 2010

(गीत) खेत- खलिहान उजड़ने न देंगे !



                                
                                              ये देश हमारा  है ,हम इसकी शान उजड़ने न देंगे !

                                                        कितनी पावन है यहाँ के 
                                                         हरे -भरे खेतों की माटी ,
                                                        श्रम के गीतों से गमकती 
                                                        इसकी नदियाँ और घाटी !

                                            इस धरती के खेत और खलिहान उजड़ने न देंगे !

                                                       भीनी-भीनी भिनसारे की 
                                                       जहां बहे बयार वासन्ती ,
                                                      जहाँ अभावों में भी हरदम 
                                                       होली और दीवाली मनती !

                                           रंग-बिरंगे फूलों का  हम  उद्यान उजड़ने न देंगे   !
                                                   
                                                   अमृत जैसी जिसकी ममता ,
                                                   जिसके मन-मंदिर में समता ,
                                                   गीत जहां हर पल प्यार का 
                                                  हर तन ,हर मन में है रमता !
                            
                                            ऐसे सुंदर आंगन का मकान उजड़ने न देंगे   !

                                                                                                  - स्वराज्य करुण
                                             

                                                   
                                               

4 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. एक दम रेशमी अहसास को जगाती रचना।
    जहाँ अभावों में भी हरदम
    होली और दीवाली मनती !

    बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    आज की कविता का अभिव्‍यंजना कौशल

    ReplyDelete
  3. सुन्दर कविता !

    ReplyDelete