Wednesday 1 December 2010

(गज़ल) कातिलों की कचहरी !

                                                                      स्वराज्य  करुण
                         
                         
                                  बिन बुलाए मेहमान सी आंगन में खड़ी  है  ,
                                  मुसीबतों की  न जाने  कैसी ये  घड़ी है !

                                   कल रात  दिल से दिल का जमकर हुआ झगड़ा ,
                                   ज़ज्बात को ठोकर से लगी चोट गहरी है  !

                           
                                  इंसान के चेहरे ने  इंसान को बहुत लूटा ,
                                  इंसानियत का  बोल  यहाँ  कौन प्रहरी है !
                                 
                    
                                   भोलापन  इस  गाँव का बह गया सैलाब में ,
                                   खेतों में आ  के बस गए चालबाज शहरी हैं !


                                   कुर्सी जहां आज खुद मुजरिम हुआ करे ,
                                   मेरे वतन में कातिलों की ऐसी कचहरी है !                                                                               
                                                                                    स्वराज्य करुण 

4 comments:

  1. भोलापन इस गाँव का बह गया सैलाब में ,
    खेतों में आ के बस गए चालबाज शहरी हैं !

    कुर्सी जहां आज खुद मुजरिम हुआ करे ,
    मेरे वतन में कातिलों की ऐसी कचहरी है !
    Bahut sahee.

    ReplyDelete
  2. वाह!क्या कहने………………अति सुन्दर

    ReplyDelete