Sunday 21 November 2010

(गीत ) धान के सागर में !

                                                                                             स्वराज्य करुण
                                                       
                                                       कल तक थे हरे-हरे , आज हुए सुनहरे ,
                                                       लहराए  शान से , क्यों किसी से डरें !

                                                             पसीने की बूंदों से
                                                             बनी हैं ये बालियाँ
                                                              उम्मीद से भरती हैं
                                                             हर किसी की थालियाँ !

                                                     रात के सफर में थको मत इस तरह ,
                                                     रोशनी के इंतज़ार में न रहो खड़े !
                                                         
                                                             हवाओं में सपनों का
                                                             गूंजे सरगम
                                                             फिर किसी की आँखें भी
                                                             क्यों होंगी नम !
                               
                                               झूम उठी मस्ती में   कलियों की महफ़िल
                                                पेड़ों के होठों से  गीतों के फूल झरें  !
                                  
                                                       खेत हैं सजे-धजे
                                                       धानी-परिधान में ,
                                                       पंछियों की चहक सुनो ,
                                                       सुबह की मुस्कान में !

                                            कुदरत का कलाकार मौसम की तूलिका से                               
                                            हर दिन,हर पल  यहाँ नए -नए  रंग  भरे    !                                   
                                                                                      
                                                  ये अपनी धरती सच ,
                                                   धान का सागर है,
                                                   दूर-दूर तक फैले 
                                                  प्रेम के  आखर हैं   !
                              
                                          दिन हो या रात , सब इसके ही आंगन हो ,
                                          इसकी ही गोद में हम रोज जिएं और मरें !  
                                                                                  स्वराज्य करुण

4 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति ....धान के खेत लहलहा गए आँखों के सामने

    ReplyDelete
  2. ये अपनी धरती सच ,
    धान का सागर है,
    दूर-दूर तक फैले
    प्रेम के आखर हैं !
    शानदार मौसमी गीत ,बधाई .
    कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश उत्सव की आपको बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  3. अशोक जी की टिप्पणी हमारी भी मानिये !

    ReplyDelete
  4. दिन हो या रात , सब इसके ही आंगन हो , इसकी ही गोद में हम रोज जिएं और मरें !
    bahut badiya sir

    ReplyDelete