Monday 15 November 2010

(कविता ) हमारा समय !

                                      जब कहीं दम तोड़ रही हो
                                      तन -मन और वतन की आबरू ,
                                      जब किसी गुनहगार के हाथों
                                      ज़िंदा जल रहा हो कोई बेगुनाह /

                                       तब जान कर भी सब कुछ
                                       और देख कर भी बहुत कुछ ,
                                       पिघलता नहीं हमारा ह्रदय
                                       सच ! कितना खौफनाक
                                       हो गया है हमारा समय /

                                      सच्चाई की आँखों में आँखें
                                      डाल कर  बतियाने से भी
                                      घबराता है हमारा समय /

                                      रास्ते में देख कर अपने ही
                                      जैसे किसी इंसान का खून
                                      और इंसानियत की लाश ,
                                      हमारा समय करने लगता है
                                      किसी सुरक्षित ठिकाने की तलाश /

                                     
                                       भागम-भाग से भरी दुनिया में
                                       किसी के पास नहीं है
                                       किसी के लिए एक पल भी
                                       रुकने की  फ़ुरसत /
                                       हर किसी को चाहिए बस
                                       दौलत ही दौलत /
                                   
                                      एक अंतहीन दौड़  का हिस्सा
                                      बन कर जाने किस दिशा में
                                      प्रकाश की गति से भी तेज
                                      कितनी बदहवासी में भाग रहा है
                                      हमारा समय / 
                                    
                                      लोग कहते हैं कि
                                      यह सब समय का तकाजा है ,
                                      सुख-सुविधा के जलसे में फिर भी
                                      कुछ लोगों के लिए खुला जो रहता है
                                      वह अदृश्य पिछ्ला दरवाजा है /
                                       
                                      कोई नहीं जानता
                                      इस निरर्थक दौड़ में किसकी
                                      होगी विजय और किसकी पराजय /
                                      दोस्तों ! क्या हर मौसम में
                                      अब ऐसा ही रहेगा हमारा समय ?
                                                                    स्वराज्य करुण
                                                                 
                                     
                                       
                                       
                                       

                                       
                                
                                     
                                

3 comments:

  1. सच्चाई की आँखों में आँखे डाल कर बतियाने से भी
    घबराता है हमारा समय / vakai aap likhte bahut aacha hai

    ReplyDelete
  2. दौड़, मंजिल पा ही लेगी.

    ReplyDelete
  3. कोई नहीं जानता इस निरर्थक दौड़ में किसकी
    होगी विजय और किसकी पराजय

    बहुत बढ़िया

    ReplyDelete