Monday 1 November 2010

(कविता) हो गए दस साल के !

                              

                     (छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण की दसवीं साल गिरह पर )  

                                 कितने ही सपने दिल में रोज पाल के
                                 देखते ही देखते हो गए दस साल के !
                 
                                 राज अपना छत्तीसगढ़ ,इसके हम वाशिंदे 
                                 मेहनत से जी रहे ,लगते कमाल के !

                                  हकीकत में बदल रही बरसों की हसरतें
                                  रखेंगे सहेज कर सीने में सम्भाल के !

                                  वादा निभा कर  सिखाया हमे अटल ने
                                  भूलो मत हम पंछी सब हैं इक डाल के !

                                  वतन के चमन  का फूल हमारा सूबा है,
                                  उभरते सितारे हैं हम इसके भाल के !

                                 होती है सुबह यहाँ आकाश में  इस तरह
                                 धरती के आँचल में प्यार के रंग डाल के !

                                  दुनिया को खिलाते हैं धान का चावल हम ,
                                  थोड़े में गुज़ारा कर लेते है उबाल के  !

                                  तरक्की के सफ़र में जा रहा है काफिला,
                                  परचम लहरा कर  गगन में निकाल के  ! 

                                                                स्वराज्य करुण
                        

3 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  2. दुनिया को खिलाते हैं धान का चावल हम ,
    थोड़े में गुज़ारा कर लेते है उबाल के .

    सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  3. वाह, सुन्दर गजल है भाई साहब
    इसे थीम सांग में भेजना चाहिए था प्रविष्टि के तौर पर

    छत्तीसगढ राज्य की दसवीं वर्षगांठ पर गाड़ा गाड़ा बधाई

    ReplyDelete