Thursday 16 September 2010

हरियाली के हत्यारों की अब खैर नहीं !

हरियाली के हत्यारों को अब सावधान हो जाना चाहिए . उनकी पर्यावरण-विरोधी हरकतों पर अब जनता और भी ज्यादा पैनी नज़र  रखेगी  .हरियर छत्तीसगढ़ वृक्षारोपण महाभियान के प्रणेता, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश की जनता को यह अधिकार दिया है .  उन्होंने राजधानी रायपुर में वन-विभाग के मुख्यालय ' अरण्य-भवन ' में एक निः शुल्क कॉल-सेंटर ' खुलवाया है ,जहां राज्य के किसी भी इलाके से कोई भी नागरिक टोल-फ्री टेलीफोन नंबर 1800-233-8888  डायल कर पेड़-पौधों और वनों  के खिलाफ होने वाले किसी भी अपराध की सूचना तुरंत दे सकेगा .वन्य-प्राणियों के अवैध शिकार की जानकारी भी इस नंबर पर दी जा सकेगी.ऐसी सूचनाओं पर फ़ौरन जांच होगी और दोषी लोगों पर कार्रवाई की जाएगी . अब छत्तीसगढ़ भारत का पहला ऐसा राज्य है , जहां वनों और वन्य-प्राणियों की रक्षा के लिए निःशुल्क कॉल-सेंटर खोल कर आम-जनता की सीधी भागीदारी  सुनिश्चित की जा रही है  . वन-मंत्री श्री विक्रम उसेंडी ने कल 15 सितम्बर की शाम  'अरण्य-भवन' में इस निःशुल्क कॉल-सेंटर का शुभारम्भ किया. जो 16 सितम्बर से हर शासकीय कार्य-दिवस में सवेरे 10.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक चालू रहेगा .
      मुख्यमंत्री को इस वर्ष विगत नौ जनवरी को छत्तीसगढ़ राज्य कर्मचारी संघ के प्रतिनिधि-मंडल ने रायपुर में उनके घर पर नए साल की सौजन्य-मुलाक़ात के दौरान एक ज्ञापन सौंप कर यह सुझाव दिया था कि पेड़-पौधों और वनों की रक्षा के लिए ऐसा कॉल -सेंटर खोला जाना चाहिए , जहां  हरियाली बचाने के लिए आम-जनता की ओर से वन-विभाग को उपयोगी सूचनाएं तुरंत मिल सके.सार्वजनिक-वितरण प्रणाली के तहत राशन-दुकानों पर निगाह रखने के लिए जनता को निःशुल्क कॉल-सेंटर की सुविधा देने वाला पहला राज्य भी छत्तीसगढ़ है ,जहां डॉ. रमन सिंह द्वारा प्रारम्भ यह कॉल-सेंटर पिछले करीब पौने तीन साल से चल रहा है .इसके बेहतर नतीजे आए हैं . सरकारी राशन की अवैध निकासी की अब कोई हिमाकत नहीं कर सकता, क्योंकि जनता सब देख रही है और संचार-क्रांति ने आज लगभग हर तीसरे-चौथे व्यक्ति के हाथों में मोबाइल-फोन थमा दिया है. राशन समय पर नहीं पहुंचे ,या फिर उसकी अवैध-निकासी की भनक लगे , तो कोई भी नागरिक निःशुल्क कॉल-सेंटर को फोन पर खबर दे सकता है . इसके फलस्वरूप अब छत्तीसगढ़ में राशन-वितरण में शिकायतें काफी कम हो गयी है . इसी कड़ी में वनों की रक्षा के लिए कॉल-सेंटर खोलने का सुझाव मुख्यमंत्री को  काफी पसंद आया .उन्होंने वन-विभाग को इस दिशा में ज़रूरी कार्रवाई के निर्देश दिए और जनता को यह सुविधा मिल गयी .
    बिगड़ता पर्यावरण आज सभी लोगों के जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है.ग्लोबल-वार्मिंग की गंभीर चुनौती दुनिया के सामने है. औद्योगिक -प्रदूषण का धुआं हमारे प्राण-वायु ऑक्सीजन को लगातार सोख रहा है . इसमें दो राय नहीं कि पर्यावरण को बचाने में हरियाली की सबसे बड़ी भूमिका होती है और हरियाली के लिए पेड़-पौधों का होना बहुत ज़रूरी है,जो हमें बादल और वर्षा के साथ-साथ भरपूर ऑक्सीजन भी देते हैं . ऐसे में पेड़-पौधों को बचाना और अपने परिवार के सदस्यों की तरह उनकी देख-भाल करना हम सबकी ज़िम्मेदारी बनती है. इसी नेक इरादे से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने जनता को निःशुल्क  कॉल सेंटर की एक महत्वपूर्ण सुविधा दी है .उम्मीद की जानी चाहिए कि इसका भरपूर लाभ छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश को और आगे चल कर पूरी दुनिया को मिलेगा . इस जन-कल्याणकारी पहल के लिए मुख्यमंत्री और उनकी सरकार को बहुत-बहुत बधाई और धन्यवाद .
                                                                                                       - स्वराज्य करुण

10 comments:

  1. सुरुआत तो बहुत होती है पर जिम्मेदारियों का निर्वाह सही ढंग से किया जाये तो बहुत अच्छा हो ..........

    इसे भी पढ़े :-
    (आप क्या चाहते है - गोल्ड मेडल या ज्ञान ? )
    http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  2. मुख्यमंत्री जी का उठाया कदम सहीं हैं..

    ReplyDelete
  3. नेक काम के लिए डॉक्टर रमन सिंह जी को बधाई
    जानकारी देने के लिए आपका कोटिश: आभार

    ReplyDelete
  4. अच्छा लगा आपकी पोस्ट पढके!
    लोगों की अच्छी बातों को भी उजागर करना चाहिए!
    साधुवाद!
    आशीष
    --
    बैचलर पोहा!!!

    ReplyDelete
  5. yeh desh bhar main lagu hona chahiya

    ReplyDelete
  6. एक सार्थक पोस्ट !

    ReplyDelete
  7. call centre ki sthaapna nischay hi ullekhniya aur saraahniya prayaas hai .

    ReplyDelete
  8. उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए आप सबको ह्रदय से धन्यवाद.
    आप भी अपने इलाके में स्थानीय वन विभाग या प्रशासन को
    सुझाव देकर इस प्रकार की रचनात्मक पहल कर सकते हैं .

    ReplyDelete
  9. अच्छा लगा आपको पढ़कर,
    सुन्दर पोस्ट.
    यहाँ भी पधारें:-
    अकेला कलम...
    Blogger Help Adda

    ReplyDelete