Wednesday 15 September 2010

ये कैसी हवा चली !

                                       देखो दबे पांव चल रही हवा ,
                                       इधर-उधर कहीं  उछल रही हवा !
                                
                                      सूरज के सामने है  रोशनी का संकट ,
                                      अँधेरे की आग में जल रही हवा !
                                 
                                       बादलों की बांहों में कहीं रो रही ,
                                       धरती की गोद में मचल रही हवा !
                     
                                       कभी अनुकूल, तो कभी प्रतिकूल है ,
                                       बार- बार दल बदल रही हवा  !  
                                    
                                                           - स्वराज्य करुण

2 comments:

  1. ओह...हवा के बहाने बहुत कुछ कहा !


    कविता पढते हुए आपके ब्लॉग के मुताल्लिक एक ख्याल आया है ! आगे कभी मेल करता हूं !

    ReplyDelete
  2. kabhi anukul to kabhi pratikul hai, baar baar dal badal rahi hawa. behad sundar rachna.

    ReplyDelete