Wednesday 8 September 2010

एक हैं सबके अर्थ-इशारे !

            ईश्वर तेरे नाम पर , अल्ला तेरे नाम पर
            जाने क्यों करते हैं इतना हल्ला तेरे नाम पर ?
                      
                   पर्वत-पनघट, चिलमन -घूंघट
                   सबकी भाषा एक है
                   सागर से मिलने को व्याकुल
                   नदियों की आशा एक है !
   
         लहरों के मीठे सरगम को किसने कुचला तेरे नाम पर
         ईश्वर तेरे नाम पर , अल्ला तेरे नाम पर ?
                
                 धरती -सूरज, चाँद -सितारे ,
                 बादल-वर्षा एक हैं सारे ,                    
                 अनुवादों का सार एक है ,
                 एक हैं सबके अर्थ-इशारे !
  
      फिर भी उस दिन झुलसा क्यों मुहल्ला तेरे नाम पर ,
      ईश्वर तेरे नाम पर , अल्ला तेरे नाम पर ?
           
                सब में तेरा नेह-नीर है ,
                गागर हो या सागर हो ,
                उसे बेचने लगा आदमी                       
               जाने क्यों सौदागर हो !

        टिड्डी -दल सा खा जाते क्यों  गल्ला तेरे नाम पर
        ईश्वर तेरे नाम पर , अल्ला तेरे नाम पर ?
                                                -  स्वराज्य करुण
            .
           

7 comments:

  1. लाजवाब .


    पोला की बधाई भी स्वीकार करें .

    ReplyDelete
  2. आभार रचना पढ़वाने का.

    कृपया सह-चिट्ठाकारों को प्रोत्साहित करने में न हिचकिचायें.

    नोबल पुरुस्कार विजेता एन्टोने फ्रान्स का कहना था कि '९०% सीख प्रोत्साहान देता है.'

    ReplyDelete
  3. बहुत -बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. ishwar to ek bahaana hai. vastav me hamara agyaan aur nihit swaarth hame aur baaton k saath-saath ishwar k naam par bhi lada deta hai.

    ReplyDelete
  5. हौसला बढ़ाने के लिए आप सबका बहुत-बहुत आभार .

    ReplyDelete