Wednesday 29 September 2010

अनपढ़ रह जाना अच्छा है !

                                           वैसे तो हर इंसान जग में  ईश्वर  का ही बच्चा है ,
                                           फिर भी  उसका दावा है कि एक वही तो सच्चा है !

                                         राम-रहीम की जन्म भूमि के झगडों में ही उलझे सब ,
                                         कौन झाँकने जाए किसके घर का चूल्हा कच्चा है !

                                        आज रुदन के बीच ये कैसी ज़हरीली आवाजें हैं ,
                                        शीश महल के हर कोने में सिर्फ सियासत रक्षा है !

                                        जो कहते हैं खुद को मानवता का रक्षक दावे से ,
                                        आज उन्होंने इंसानों को खुले आम फिर भक्षा है  !

                                       जाति-धर्म के भेद-भाव में पढ़े-लिखे भी बहक गए 
                                      इससे तो अनपढ़ रह जाना मित्र  बहुत ही अच्छा है !  
                                
                                                                                       स्वराज्य करुण

                       
                                    

                                       
                                          

                               

5 comments:

  1. पढ़े-लिखे भी बहक गए. लेकिन उसका दावा है कि एक वही तो सच्चा है !sateek saffaak bebaak

    ReplyDelete
  2. सार्थक लेखन !

    ReplyDelete
  3. जाति-धर्म के भेद-भाव में पढ़े-लिखे भी बहक गए
    इससे तो अनपढ़ रह जाना मित्र बहुत ही अच्छा है

    बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने .......

    पढ़िए और मुस्कुराइए :-
    कहानी मुल्ला नसीरुद्दीन की ...87

    ReplyDelete
  4. त्वरित टिप्पणियों के लिए आप सबका आभार .

    ReplyDelete
  5. बहुत सार्थक लेखन ....सच ही इससे तो अनपढ़ ही ठीक ..

    ReplyDelete