Tuesday, September 28, 2010

स्याह गर्भाशय में फिर भी !

                                      ऐसा जादू जमा तुम्हारा मतलब के व्यापार से ,
                                      बहुत कमाया  बहुत बनाया मज़हब  के व्यापार से !

                                      पहले तो सौदागर जैसे आए हमारे देश में , 
                                      फिर ले आए सात पीढियां सात समंदर पार से   !
                               
                                     कुछ उत्तर कुछ दक्षिण में तो ,  कुछ पूरब कुछ पश्चिम ,
                                     धरती का दम घुट जाए है अब तो इनके भार से !

                                    भाई-भाई से बैर बढ़ा कर घर-आँगन में युद्ध कराया ,
                                    भारत माँ के टुकड़े कर गए नफरत की तलवार से !

                                    विष का पौधा रोपा  तुमने हरियर आँचल सूख गया ,
                                     निर्मम मौत मरी मानवता अपने हाहाकार से  !

                                    स्याह गर्भाशय में फिर भी  एक नयी रचना की आशा ,
                                    अपनी धड़कन तेज कर गयी शिशु की मधुर पुकार से !
                         
                                                                                        स्वराज्य करुण

6 comments:

  1. अच्छी पंक्तिया लिखी है ........

    जाने काशी के बारे में और अपने विचार दे :-
    काशी - हिन्दू तीर्थ या गहरी आस्था....

    अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये

    ReplyDelete
  2. स्याह गर्भाशय में फिर भी एक नयी रचना की आशा।
    अपनी धड़कन तेज कर गयी शिशु की मधुर पुकार से॥

    वाह भाई साहब आज तो कमाल कर दिया।
    उम्दा रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  3. कविता बहुत पसंद आई खासकर उसकी पृष्ठभूमि में मौजूद 'ख्याल' !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर कविता लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  5. विष का पौधा रोपा तुमने हरियर आँचल सूख गया ,
    निर्मम मौत मरी मानवता अपने हाहाकार से !

    बहुत खूबसूरत ....

    ReplyDelete
  6. टिप्पणियों के लिए आप सबको ह्रदय से धन्यवाद .

    ReplyDelete