Wednesday 15 September 2010

सब कुछ गायब !

                                      बच्चों की मुस्कान है गायब ,
                                      फूलों की पहचान है गायब !
       
                                      दुनिया की भीड़ भरी बस्ती में,
                                      हैं लोग बहुत, इंसान है गायब !

                                        सीने में तलवार घोंप कर,
                                         हाथों के निशान हैं गायब  !
                              
                                         चिकने-चौड़े राज-पथों पर ,
                                       सच का तो सम्मान है गायब !
                            
                                        भोगी अब भगवान हो गया ,
                                       रोगी के पंछी -प्राण हैं गायब !
                                
                                        गाँव उजड़े , नगर बस गए ,
                                        भूमि-पुत्र नादान हैं गायब !

                                       मन की बात कहूं भी कैसे ,
                                      मन का तो मेहमान है गायब !

                                                         -स्वराज्य करुण

11 comments:

  1. कृपया इतनी अच्छी कविताएं न लिखें । हमें जलन होती है ।

    वाह ! वाह ! वाह ! वाकई बेहतरीन गज़ल है !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर लिखा है आज का सच्।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना , ...!!!...एक शानदार और सच को कहती हुई ग़ज़ल ,,,,,लाजवाब !!!

    , शब्दों के इस सुहाने सफ़र में आज से मैं भी आपके साथ हूँ , इस उम्मीद से की सफ़र शायद दोनों के लिए कुछ आसान हो .....मिलते रहेंगे

    अथाह...


    !!!

    ReplyDelete
  4. विवेक जी , वंदना जी और राजेंद्र जी को उनकी
    स्नेहपूर्ण टिप्पणियों के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  5. आपकी सृजनशीलता को मानना पड़ेगा ! आपनें गायब में से क्या क्या उजागर कर दिया :)

    ReplyDelete
  6. अली साहब !आपकी टिप्पणी मेरे लिए
    मूल्यवान धरोहर है. आभार .

    ReplyDelete
  7. वाह स्वराज भैया, अली साहब ने सही कहा है। गायब का सुंदर इस्तेमाल किया है आपने।
    ढेर सारी शुभकामनाएं-मेल देखें।

    ReplyDelete
  8. aapki rachana padane ke baad mere prashansha ke shabd bhi gayab ho gae.....kyuki ye rachana prashansha se bhi upar hai.
    bahut sundar
    अनुष्का

    ReplyDelete
  9. ललित जी और रानी विशाल जी को उनकी
    आत्मीय टिप्पणियों के लिए ह्रदय से धन्यवाद .

    ReplyDelete
  10. rani vishaal k comment se puri tarah sahmat.

    ReplyDelete