Friday 17 September 2010

गीत

                                    
                                                                  युद्ध के मैदान में  !

,                                                  आंसुओं की वृष्टि है और दुखों की सृष्टि है ,
                                                  तुम मेरी करुणा हो सुनो युद्ध के मैदान में !
                                 
                                                              संघर्ष है कठिन बहुत
                                                             जीवन -मरण का प्रश्न है.
                                                             इस तरफ मायूसियाँ
                                                            उस ओर  खूब जश्न है !

                                                   वेदनाएं रिसती हैं , आंसुओं की वृष्टि है ,
                                                   सितारों के नम हैं नयन नीले आसमान में !

                                                            गांव हैं सुनसान और
                                                            शून्य हैं  पगडंडियां.
                                                            जीवन की भाग-दौड़ में
                                                            सपनों की बिकती मंडियां !
                  
                                                  हर तरफ अंधेरी दृष्टि है , और दुखों की सृष्टि है,
                                                  तुम्हीं तो हो आशा का नया सूर्य इस विहान में !
                             
                                                                                                                  स्वराज्य करुण
                                    
                                         
                                  
  .

                           

6 comments:

  1. अद्भुत रचना ....आभार
    यहाँ भी पधारें ...
    विरक्ति पथ

    ReplyDelete
  2. हर तरफ अंधेरी दृष्टि है , और दुखों की सृष्टि है,
    तुम्हीं तो हो आशा का नया सूर्य इस विहान में !

    दुःख से जन्मी निराशा में एक आशा की किरण जगाती हुयी आपका गीत सार्थक है. कभी तो कोई गायेगा ही.
    आभार

    ReplyDelete
  3. कविता अगर आस पे खत्म ना होती तो मुझे बहुत दुख होता !

    ReplyDelete
  4. टिप्पणियों के लिए आप सबको धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. Hedar sundar dikhai de raha hai.

    Shubhkamnayen..................

    ReplyDelete
  6. ali g ki tippani se puri tarah sahmat

    ReplyDelete