Thursday 16 September 2010

भूल गए सब गाँव की दुनिया !

                      पाँव -पाँव कांटे ही कांटे ,
                      गाँव-गली की धूल  नहीं है ,
                      मेरे दिल की धड़कन भी अब
                       मेरे ही अनुकूल नहीं है !
                
                            भूल गए सब गाँव की दुनिया
                           पीपल, पनघट, छाँव की दुनिया
                           दौड़ आए हैं दूर-दूर तक ,
                           मिली नहीं सदभाव  की दुनिया !

              यह कैसी बगिया है जिसमे
              तितली ,भौरें ,फूल नहीं हैं ,
             मेरे दिल की धड़कन भी अब
             मेरे ही अनुकूल नहीं है .!

                       चीख रही है जाने कब से
                      बेगानों के बीच ज़िन्दगी ,
                      इंसानों को ढूंढ रही है
                     इंसानों के बीच ज़िन्दगी !

              चेहरों के बहते समंदर में देखो
              जहाज़ों पर मस्तूल नहीं है ,
             मेरे दिल की धड़कन भी अब
             मेरे ही अनुकूल नहीं है  !
                               - स्वराज्य करुण

6 comments:

  1. मिली नहीं सदभाव की दुनिया !


    बहुत बढ़िया पोस्ट .बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. खुद के दिल की धडकनों के बागी सुर भला यूं सजाता है कोई ? :)

    ReplyDelete
  4. आप सबकी आत्मीय टिप्पणियों के लिए
    हार्दिक आभार .

    ReplyDelete