Wednesday 15 September 2010

मौसम का भरोसा नहीं !

                                       दिन उगता है और ढल जाता है
                                      आदमी को आदमी छल जाता है !

                                  
                                       चेहरों के समीकरण हल करने में
                                       बेकार एक-एक पल जाता है . !
                               
                                     किसी भी मौसम का भरोसा नहीं
                                      गिरगिट -सा  रंग बदल जाता है !
                       
                                     एक रोटी मिलती है आज के लिए
                                     सवाल फिर कल तक टल जाता है !

                                    जाने क्या होगा फिर सोचते हुए
                                   वक़्त का ये काफिला निकल जाता है !
                                                              - स्वराज्य करुण

9 comments:

  1. आपका पोस्ट सराहनीय है. हिंदी दिवस की बधाई

    ReplyDelete
  2. अशोक जी ! आपकी उत्साहवर्धक त्वरित
    टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.
    पर्यावरण की रक्षा के लिए आपने
    ग्राम-चौपाल में बच्चों के नाम पत्र लिख कर
    बड़ों को भी कुछ करने की प्रेरणा दी है .
    आप स्वयं बच्चों के बीच पहुँच रहे हैं .
    आपका यह अभियान ज़रूर रंग लाएगा .
    हिन्दी-दिवस पर आपको और ब्लॉग-जगत के
    सभी दोस्तों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  3. एक रोटी मिलती है आज के लिए
    सवाल फिर कल तक टल जाता है !

    आपके सभी अशआर मायने लिए हुए हैं...
    बहुत सच्ची और गहरी बात कह रहे हैं..
    सचमुच बहुत पसंद आए हैं...
    हृदय से धन्यवाद आपका...

    ReplyDelete
  4. पता नहीं क्यों ? चेहरों के समीकरण हल करने वाले मुद्दे को वक़्त की बर्बादी मानने के लिए अपना दिल राज़ी नहीं हुआ !

    शेष सारी कविता अच्छी लगी !

    ReplyDelete
  5. स्वप्न मंजूषा 'अदा' जी और अली साहब को उनकी प्रेरक टिप्पणियों के
    लिए दिल की गहराइयों से बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. एक रोटी मिलती है आज के लिए
    सवाल फिर कल तक टल जाता है!

    -क्या बात है, बहुत उम्दा ख्याल!

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी प्रस्तुती

    ReplyDelete
  8. रचना जी और उड़न तश्तरी के समीर जी को
    उनकी टिप्पणियों के लिए ह्रदय से धन्यवाद .

    ReplyDelete