Sunday 5 September 2010

गीत

              पूछ रहे हैं मंदिर-मस्जिद ,पूछ रहे हैं काशी-काबा ,
              रंग-बिरंगी इस दुनिया मे आखिर कब तक खून-खराबा !                                   

                             कहीं धरा के नाम पर 
                            कहीं गगन के नाम पर ,
                            कहीं नदी के नाम पर 
                            कहीं चमन के नाम पर !

             होगी कब तक झूमा -झटकी, चलेगा कब तक शोर-शराबा ,
            रंग-बिरंगी इस दुनिया में आखिर कब तक खून-खराबा !

                      छोटी-छोटी बातों पर क्यों
                      आपस में ही लड़ना -भिड़ना ,
                     अपने ही सपनों की ह्त्या 
                      अपनी ही आँखों से गिरना !

          जीवन की यह सड़क है लम्बी , दूर बहुत है मंजिल बाबा,
         रंग-बिरंगी इस दुनिया में आखिर कब तक खून-खराबा !

                   मतलब की खातिर बेचे 
                  अपने ऊंचे उसूलों को ,
                  तोडी कितनी कलियाँ न जाने 
                  कुचले कितने फूलों को !
.
       दिल की रोकड़ -पंजी में, अब तक हमने  नहीं हिसाबा , 
       रंग-बिरंगी इस दुनिया में आखिर कब तक खून-खराबा !
                                                                        -  स्वराज्य करुण

8 comments:

  1. अच्छी पंक्तिया है ....

    http://oshotheone.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. मतलब की खातिर बेचे अपने ऊंचे उसूलों को ,
    तोडी कितनी कलियाँ न जाने कुचले कितने फूलों को !
    दिल की रोकड़ -पंजी में अब तक हमने नहीं हिसाबा.

    सुंदर पंक्तियाँ
    दिली अहसास के साथ दिल की बात
    सलाम है आपके जज्बे को
    आभार

    ReplyDelete
  3. शिक्षा का दीप जलाएं-ज्ञान प्रकाश फ़ैलाएं

    शिक्षक दिवस की बधाई

    ReplyDelete
  4. behad sundar vichar, behad sundar kavita

    ReplyDelete
  5. आप सबकी उत्साहजनक प्रतिक्रिया के लिए
    बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. सुन्दर , प्रेरक रचना !

    ReplyDelete
  7. अली साहब को उनकी प्रतिक्रिया के लिए
    बहुत -बहुत धन्यवाद .उम्मीद है -आगे भी
    स्नेह बनाए रखेंगे

    ReplyDelete