Saturday 14 August 2010

मौसम ही एक दिन बदलेगा मौसम को

एक दिन ऐसा होगा ज़रूर कि
पानी लौटेगा अपनी जड़ों की तरफ
और होंगे फिर हमारे सपने हरे -भरे .
आकाश की गहरी नीली परछाई वाले
तालाब के ठहरे शांत पानी में एक नटखट बच्चा फेंकेगा
एक दिन छोटा -सा कंकड़
और दूर -दूर तक होगी हलचल .
लौट कर आएँगे फिर ऐसे दिन ,
जब पहाड़ों के पथरीले बदन को
मिलेगी हरियाली की नर्म नाजुक छुअन,
जब घर के खुले आँगन में दिखेगी फिर
चहचहाती गौरय्या
और छतों पर चहकेंगे दूर -देश के पंछी .
आज भले ही सन्नाटा है हवाओं में और
खामोश है यह मौसम ,
पर देख लेना  दोस्तों !                                                                            
मौसम ही एक दिन बदलेगा मौसम को.
                                                  स्वराज्य करुण       
                                                 

2 comments:

  1. वाह, ताजगी का झोंका. रमानाथ अवस्‍थी की पंक्तियां याद आ रही हैं - कुछ कर गुजरने के लिए मौसम नहीं मन चाहिए.

    ReplyDelete
  2. aaj bhale hi sannata hai hawaon me aur khamosh hai ye mausam,par dekh lena doston , mausam hi badlega mausam ko. behad sundar panktiyan.

    ReplyDelete